घूँघट हटाय के – Ghunghat Hatai Ke (Sudha Malhotra, Mubarak Begum, Rangeen Raaten)

Movie/Album: रंगीन रातें (1956)
Music By: रोशन
Lyrics By: केदार शर्मा
Performed By: सुधा मल्होत्रा, मुबारक बेग़म

घूँघट हटाय के, नज़रें मिलाय के
बलमा से कह दूँगी बात
चोरी-चोरी चुपके-चुपके
बलमा से कह दूँगी बात
घूँघट हटाय के…

बार-बार ले के अंगड़ाई
मैं खुद ही हँसी, खुद ही शरमाई
कहने को औरत की ज़ात
ओ यही चोरी-चोरी चुपके-चुपके…

हर धड़कन में नए तराने
होठों पर हैं गीत सुहाने
नैनों में क्यों बरसात
हाय राम नैनों में क्यों बरसात
ओ यही चोरी-चोरी चुपके-चुपके…

कब अँखियन की प्यास बुझाओ
जाने कब सपना बन आओ
आँखों में काटूँ मैं रात
हाय राम आँखों में काटूँ मैं रात
ओ यही चोरी-चोरी चुपके-चुपके…
घूँघट हटाई के…

Leave a Comment